दिनांक 8 अप्रैल 2024 को विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर श्रीमती रेखा देवी मेमोरियल हॉस्पिटल डासना

  • --
दिनांक 8 अप्रैल 2024 को विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर श्रीमती रेखा देवी मेमोरियल हॉस्पिटल डासना,ग़ाज़ियाबाद द्वारा एसडीजी ग्लोबल विश्वविद्यालय के प्रांगण में भव्य चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया जिसका शुभारंभ प्रोफेसर डॉक्टर आर. के. खंडाल कुलाधिपति, एसडीजी विश्वविद्यालय द्वारा फीता काटकर एवं भगवान धन्वंतरि को माल्यार्पण कर के किया गया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर डॉक्टर शक्ति सिंह जी, कॉलेज आफ फार्मेसी की निदेशक डॉक्टर शालिनी शर्मा ,स्कूल आफ फ़ार्मेसी की प्राचार्य डा.अनीता सिंह और एसडीजी ग्लोबल यूनिवर्सिटी की डीन डा. विभा सिंह ने उपस्थित रहकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। इस शिविर में विश्व आयुर्वेद परिषद की ग़ाज़ियाबाद शाखा से आये हुए डा. यू एस चौधरी, डा. संदीप गर्ग, डा. सुभाष गुप्ता, डा. रजत त्यागी, डा. श्री कांत गौर, डा. जयपाल सिंह चौहान की उपस्थिति एवं सहयोग उल्लेखनीय रहा। कैंप में विभिन्न आयुर्वेदिक दवाओं की निर्माता फ़ार्मास्यूटिकल् कंपनियों द्वारा अपने-अपने उत्पादों के स्टाल लगाए गए जिसमें एमिल, वैद्यनाथ, डाबर, माहेश्वरी फ़ार्मास्यूटिकल्स, एस जी फ़ार्मास्यूटिकल्स इत्यादि कंपनियों के नाम उल्लेखनीय हैं। विश्व आयुर्वेद परिषद ग़ाज़ियाबाद के सहयोग से शिविर में आये 110 रोगियों में से 36 रोगियों के सभी Pathological tests निःशुल्क किये गये। दोपहर के समय एसडीजी ग्लोबल यूनिवर्सिटी के सेमिनार हॉल में आयोजित संभाषा परिषद में प्रोफेसर डॉक्टर आर.के. खंडाल जी, प्रोफेसर डॉक्टर शक्ति सिंह जी व अन्य अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित करके कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस अवसर पर डायरेक्टर (एडमिन) श्री महेश चंद्र गर्ग द्वारा अतिथियों का माल्यार्पण करके स्वागत किया गया और प्रशस्ति चिन्ह देकर उनका सम्मान किया गया। आगे के कार्यक्रम में इस वर्ष “विश्व स्वास्थ्य दिवस 2024 “ की थीम "मेरा स्वास्थ्य मेरा अधिकार" को लेकर सभी वक्ताओं ने अपने अपने विचार उपस्थित अतिथियों ,अध्यापकों और विद्यार्थियों के समक्ष रखे | जहां कुलाधिपति डा. प्रोफ़ेसर खंडाल सर ने स्वास्थ्य के लिए आयुर्वेद की महत्ता बताते हुए भारतीय संस्कारों को अपने जीवन में उतारने का संकल्प दिलाया, वहीं कुलपति डा. प्रोफ़ेसर शक्ति कुमार सिंह जी ने प्राचीन स्वास्थ्य विज्ञान के साथ- साथ वर्तमान समय में Artificial Intelligence की स्वास्थ्य के क्षेत्र में बढ़ती उपयोगिता पर प्रकाश डाला। इस संभाषा में बाहर से आए, विश्व आयुर्वेद परिषद के राष्ट्रीय महासचिव डॉक्टर सुरेंद्र चौधरी ने स्वास्थ्य के अधिकार की बात करते हुए स्वास्थ्य को अपनी Responsibility बनाने का संकल्प लेने की ज़रूरत पर बल दिया। डॉक्टर सुभाष गुप्ता ने अपने वक्तव्य में आयुर्वेद में वर्णित जीवन पद्धति को अपनाने को समय की आवश्यकता बताया। ग़ाज़ियाबाद के जाने माने अस्थि रोग विशेषज्ञ डा. राजीव आनंद जी ने Musculoskeletal disorders पर अपने विचार व्यक्त किए और उनसे बचने के उपाय बताए। हॉस्पिटल के निदेशक डॉक्टर हरीश कपूर ने कार्यक्रम का संचालन किया एवं कैंप को सफल बनाने में सभी उपस्थित अतिथियों और अपने सहयोगियों डॉक्टर एस.मलिक, डा. शिवानी, गीता वर्मा, अमन राणा व प्रदीप राणा का धन्यवाद किया। “भगवान धन्वंतरि की वंदना और तत्पश्चात् राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।“